Facebook

| INDIA FOOD TRAVEL | STREET FOOD INDIA | FOOD LOVE COUNTRY INDIA |

 INDIA , भारत 

https://www.swargyatra.co/
भारत देश जो जाना जाता है अलग अलग तस्वीरों के लिए। टेंशन ना लो में समजाता हुँ। भारत तो जानने के लिए बहोत चीजे है जैसे बॉलीवुड।  संस्कृति, परंपरा, वेशभूषा, खानपान , ये चीजे भारत में हर २००KM अंतर् पर बदल जाती है लेकिन हम  सिर्फ यहाँ भारत के अलग अलग राज्यों के अलग अलग खानपान के बारे में जानेंगे। 

अगर आपको घूमना फिरना अच्छा लगता है लाइक मेरे तरह  तो अपने अलग अलग देशो में जरूर घूमे होंगे और वहाँ का खाना भी जरूर खाया होगा जिसमे शाकाहारी मांसाहारी और मीठा जरूर खाया होगा परन्तु भारत में कुछ विशेष है क्योंकि भारत के पास मसलो को भंडार है जिसमे इलायची , केसर , लौंग और बहोत कुछ है। भारत पूरी दुनिया में २७%  मसालों का उत्पादन करता है। यिनी मसालों से भारत के व्यंजनों में अलग स्वाद आता है। तो चलो इस खाने की सैर करते है। 

सबसे पहले में अपने होम स्टेट महाराष्ट्र के खाने के बारे में बात करूँगा। 

१ महाराष्ट्रीय खाना : महाराष्ट्रीयनों ने अपने भोजन को दूसरों की तुलना में अधिक पवित्र माना है।महाराष्ट्रीयन व्यंजनों में हल्के और मसालेदार व्यंजन शामिल हैं। गेहूँ, चावल, ज्वार, बाजरा, सब्जियाँ, दाल और फल आहार प्रधान हैं। मूंगफली और काजू अक्सर सब्जियों के साथ परोसे जाते हैं। मांस खाने के भी महाराष्ट्रियन लोग शौकीन होते है। अगर आप नाश्ते से शुरुवात करना चाहते हो तो पोहा ,शिरा ,उपमा ,थालीपीठ ,मिसळपाव ,वडापाव , भजे ,समोसा , पावभाजी। कोंकण क्षेत्र में, चावल पारंपरिक प्रधान भोजन है। गीले नारियल और नारियल के दूध का उपयोग कई व्यंजनों में किया जाता है। मुम्बई और उत्तर कोंकण के लिए स्वदेशी मराठी समुदायों का अपना अलग व्यंजन है। दक्षिण कोंकण में, मालवन के पास, एक और स्वतंत्र व्यंजन मालवणी व्यंजन कहा जाता है, जो मुख्य रूप से मांसाहारी है, कोम्बडी वडे।

मांस खाने में अगर देखा जाये तो बहोत बढ़या डिशेस है।

ताम्बड़ा रस्सा : ये लाल कलर की ग्रेवी होती है जिसमे मटन के टुकड़े होते है ये महाराष्ट्र के कोलापुर जिले में बहोत फेमस है।

२ पांढरा रस्सा : ये भी कोलापुर की फेमस goat करी है जिसको white coconut milk और मटन से बनती है

३ पोपटी : ये अंडे और चिकन से बनती है और ये राजगढ़ में फेमस है।

४ मालवणी चिकेन और कोंबडी वडे ये भी बहोत फेमस है

seafood के महाराष्ट्र में बहोत वेरायटीज है

कोलांबी पुलाव २ भरे हुए केकड़े ३ केकड़ा मसाला ४ मालवानी मछली करी ५ कोलांबी मसाला ६ झींगे कोलीवाड़ा ७ भरवां पोमफ्रेट ८ बॉम्बे डक फ्राई ९ झींगे को भूनें १० बंगाड़ा करी ११ रावसाचे सुके १२ तली हुई सुरमई १३ मछली कोलीवाड़ा

करी और ग्रेवी जो भाकरी ,चपाती ,और राइस के साथ परोसी जाती है।

आमाटी : आमाटी तीखी होती है और तुर दाल से बनती है और ये विशेष त्योहारों पे बनती है।

कड़ी ,सोलकडी : ये योगर्ट से बनती है।

पिटल : ये महाराष्ट्र का हर रोज खाने वाली ग्रेवी है जो की चने के पाउडर से बनती है।

सार : ये अलग अलग सब्जिओ से बनती है।

चटनी

ठेसा : ये मिर्च को कूटकर बनाते है।

लोनच : लोनच इसको हिंदी में अचार कहते है और ये आम , निम्बू से बनता है , इससे अलग मिर्च का भी खार होता है।

पेय

कैरीच पण :कच्चे आम को जला कर ये पेय बनाया जाता है।

मसाला दूध ,कोकम सरबत , सोलकडी ,शिकरण ,मठा ये भी पेय है।

मिठा स्वीट

१ पुरण पोळी : महाराष्ट्र में विशेष त्यौहार के दिन इसे बनाया जाता है जिसे दूध के साथ खाया जाता है। 

२ मोदक : ये गणेश भगवान के त्यौहार के दिन बनाये जाते है। 

३ लड्डू ,अनरसा ,शंकरपाले ,करंजी ये सब स्वीट दिवाली में बनाये जाते है। 

२ उत्तर भारतीय खाना ,जम्मू और कश्मीर, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, उत्तराखंड, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़

मुघलाई खाना :१ कोलकाता बिरयानी२ मटन / चिकन चाप३ मटन / चिकन पासिंडा४ टुंडे के कबाब५ हैदराबादी बिरयानी६ हलीम७ Khichda८ कोरमा९ निहारी१० दक्षिण एशियाई पायलट (पहली बार दिल्ली सल्तनत द्वारा पेश)११ समोसा१२ Bakarkhani१३ चिकन टिक्का१४ भारत-फारसी और मुगल शासकों द्वारा कश्मीर को पेश किया जाने वाला रोगन जोश (सुगंधित बकरी / भेड़ का बच्चा स्टू)१५लखनवी बिरयानी१६ तंदूरी चिकन१७ आलू गोश्त (भेड़ / मटन और आलू की सब्जी)१८ कीमा मटर (जमीन-भेड़ / बीफ और मटर करी)१९ दक्षिण एशियाई कोफ्ता२० शाही पनीर२१ Shorba२२ दक्षिण एशियाई कबाब (पहली बार दिल्ली सल्तनत के दौरान): [(]२३ गलवती कबाब (मुलायम, कोमल पैटी जैसी कबाब, लखनऊ के हाजी मुराद अली द्वारा तैयार की गई)२४ बिहारी कबाब (मीट-चंक्स खुली लौ में भुना हुआ)२५ काकोरी कबाब (पहले उत्तर प्रदेश, भारत में तैयार)२६ चपली कबाब (भारत के उत्तर-पश्चिमी सीमांत में पश्तूनों द्वारा तैयार किया गया)२७ कलमी कबाब२८ सीक कबाब२९ शमी कबाब (मुगल युग में पहले तैयार सीरियाई रसोइया, "शमी" अपने सीरियाई मूल को दर्शाते हुए)३० शिकारपुर कबाब (हैदराबाद, भारत के मूल निवासी)३१ मुर्गिर कबाब३२ टुंडे के कबाब३३ मुगलई पराठा३४ मुरग मुसल्लम३५ Pasanda३६ रेजाला (अवध और मैसूर के मुगलई शासकों द्वारा बंगाल से परिचय)डेसर्ट३७ फिरनी३८ गुलाब जामुन३९ जलेबी४० Falooda४१ दक्षिण एशियाई हलवा४२ दक्षिण एशियाई सेवेनियन (दूध, स्पष्ट मक्खन, सेंवई, गुलाब-जल और बादाम से तैयार)४३ शरबत४४ कुल्फी४५ बर्फी ('बर्फ / बर्फ' के लिए फारसी शब्द से लिया गया)४६ फिरनी और खीर४७ केसरी फ़िरनी (चावल पर आधारित मीठी डिश केसर से बनी)४८ बेदामी फ़िरनी (बादाम के साथ चावल आधारित मिठाई)४९ शाही टुकरा (सूखे मेवे से भरपूर रोटी और इलायची के साथ स्वाद)५० शीर खुरमा५१ मुगल दरबार द्वारा देसी आमों की कई किस्मों को पोषित किया गया

राजस्थानी खाना: ,कढ़ी,पंचकुटा / केर संगरी ,काबुल- वेज स्तरित पुलाव,दाल बाटी चूरमा, पिटोद की सब्ज़ी, बेसन बाल सबजी, केर डक (किशमिश) सब्ज़ी, गट्टे मटर की खिचड़ी,गट्टे की सब्जी (ग्रेवी / सूखी),लच्छा पकोरी,गुलाब जामुन की सब्जी,गोविंद गट्टे,बाजरा रोटी, कदी,मोगर की सब्ज़ी,आलू मटर रो साग,बीन्स रो साग,बेसन गट्टे / पट्ठे रो साग,बेसन पूरला,बच्चे,दहि मे अलु,दाल चवाल कट्ट,दानामेथी, पापड़ रो साग,गजर रो साग,गोविंद गट्टे या शाही गट्टे,ग्वार फली रो साग,हल्दी रो साग,जयपुरीKadahai,बाजरा री राब,काकड़ी और गुवार फली रो साग,करेला रो साग,केर-संगरी रो साग,कीचा रो साग,किकोड़ा रो साग,लउकी रा कोफते,मक्की री गहत,मक्की री राब,मक्काई रो साग,बादी,मसाला गट्टा,मटर रो सा,मेथी दानीमेठी,मोरंगा रो साग,मोथा रो साग,पापड़, बादी रो साग,पापड़ रो साग,प्याज़ पनीर,Raabdi,रबोरी रो साग,सेव तमतर,दाल तड़का,बाजरे की रोटी,गुट्टे की खिचड़ी,भरमा टिंडा,आम की कढ़ी,जयपुरी मेवा पुलाव,कलमी वड़ा,दाल बंजारी,बजर का खिचड़ा{बेसन की सब्जी,अचर ऑफ मटन,दाल बाटी चूरमा।बालूशाही,बेसन की चक्की,चूरमा,DilKhushaal,सुतार फेनी,घेवर,गुजिया,सीरो(हिंदी:हलवा),इमरती,झाजरिया,Kadka,दूधकेक (अलवर का मावा),Makkhan-bada,पलंग तोर,मावा कचौरी,जलेबी","रसमलाई","गुलाब हलवा" ,"तिलपट्टी" (ब्यावर),'Diljani'

नया पेज पुराने